Mahabharata Quotes In Hindi

Table of Contents

महाभारत के अनमोल विचार | Mahabharata Quotes in Hindi

Jai Shree Krishna, As you all know Mahabharata is not only a story but is a book full of life learning . It helps you in developing your professional as well as personal life and it gives you the main moto of your life and how to live a happy life. hinduifestival.com brings to you the most precious and important Mahabharata quotes in our regional language hindi. In this article, you will find various Mahabharta quotes in hindi, black screen Mahabharata quotes, Mahabharata quotes for family Whatsapp group, and many more. . . 

 

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए
प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और।


अशांत को सुख कैसे हो सकता है|
सुखी रहने के लिए शान्ति बहुत जरुरी है|


बैर के कारण उत्पन होने वाली आग
एक पक्ष को स्वाहा किए बिना कभी शांत नहीं होती।


अपनी दृष्टि सरल रखो, कुटिल नहीं. सत्य बोलो, असत्य नहीं. दूरदर्शी बनो, अल्पदर्शी नहीं| परम तत्व को देखने का प्रयास करो, क्षुद्र वस्तुओं को नहीं|


जो मन को नियंत्रित नहीं करते
उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता है।

 

Mahabharata Black screen quotes

Mahabharata Krishna Quotes in Hindi

karma Mahabharata Quotes in Hindi

Famous Mahabharata Quotes in Hindi

नारी वह धुरी है, जिसके चारों ओर परिवार घूमता है|

व्यक्ति जो चाहे बन सकता है
यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर
लगातार चिंतन करे।

जिसने पहले तुम्हारा उपकार किया हो, वह यदि बड़ा अपराध करे तो भी उनके उपकार की याद करके उसका अपराध क्षमा दो|


किसी और का काम
पूर्णता से करने से कहीं अच्छा है कि
अपना काम करें,
भले ही उसे अपूर्णता से करना पड़े।


संसार में वही मनुष्य प्रशंसा के योग्य है, वही उत्तम है, वही सत्पुरुष और वही धनी है, जिसके यहाँ से याचक या शरणागत निराश न लौटे|


 

मन अशांत है और उसे नियंत्रित करना कठिन है,
लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है।

जिस परिवार व राष्ट्र में स्त्रियों का सम्मान नहीं होता, वह पतन व विनाश के गर्त में लीन हो जाता है|

जुआ खेलना अत्यंत निष्कृष्ट कर्म है. यह मनुष्य को समाज से गिरा देता है|

जहाँ सब लोग नेता बनने के इच्छुक हों, जहाँ सब सम्मान चाहते हों और पंडित बनते हों, जहाँ सभी महत्वाकांक्षी हों, वह समुदाय पतित और नष्ट हुए बिना नहीं रह सकता।

पुरुषार्थ नहीं करते वे धन, मित्र, ऐश्वर्य, उत्तम कुल तथा दुर्लभ लक्ष्मी का उपयोग नहीं कर सकते।


नर्क के तीन द्वार हैं –
वासना, क्रोध और लालच।


एक बुरा आदमी उतना ही प्रसन्न होता है जितना कि एक अच्छा आदमी दूसरों के बीमार बोलने से व्यथित होता है।

स्वार्थ की अनुकूलता और प्रतिकूलता से ही
मित्र और शत्रु बना करते हैं।


महाभारत, शरणागत की रक्षा करना बहुत ही पुनीत कर्म है, ऐसा करने से पापी के भी पाप का प्रायश्चित हो जाता है।


सदाचार से धर्म उत्पन्न होता है तथा
धर्म से आयु बढ़ती है।


अहंकार मानव का और मानव समाज का इतना बङा शत्रु है, जो सम्पुर्ण मानव जाति के कष्ट का कारण और अन्ततः विनाश का द्वार बनता है।


मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है
जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।


जिसे सत्य पर विश्वास होता है, और जो अपने संकल्प पर दृढ होता है, उसका सदैव कल्याण होता रहता है।


परिवर्तन इस संसार का अटल नियम है, और सब को इसे स्वीकारना ही पड़ता है; क्योकी कोई इसे बदल नही सकता।




Quotes on Mahabharata in Hindi

महाभारत, लोभ धर्म का नाशक है।


बुरे कर्मों का बुरा परिणाम निकलता है|


जो कार्य में निष्क्रियता और निष्क्रियता में कार्य देखता है
वह एक बुद्धिमान व्यक्ति है।


जुआ खेलना अत्यंत निष्कृष्ट कर्म है।
यह मनुष्य को समाज से गिरा देता है।


कर्म योग वास्तव में एक परम रहस्य है।


केवल मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता है।
स जीवन में ना कुछ खोता है|
ना व्यर्थ होता है।


निर्माण केवल पहले से मौजूद
चीजों का प्रक्षेपण है।


जैसे जल द्वारा अग्नि को शांत किया जाता है
वैसे ही ज्ञान के द्वारा मन को शांत रखना चाहिए।